विकियात्रा से
Jump to navigation Jump to search

सासाराम भारतीय राज्य बिहार के भोजपुरी भाषी क्षेत्र का एक शहर है। शहर में सूर राजाओं के तीन मकबरे और कुछ संबंधित स्मारक हैं। सासाराम ग्रैंड ट्रंक रोड पर स्थित है, जिसे शेर शाह सूरी ने बनवाया था। सासाराम के पास कुछ किले भी हैं। सासाराम में कुछ प्राचीन हिंदू मंदिर, अशोक का एक शिलालेख, महापाषाण और शैल चित्र भी हैं।

समझें[सम्पादन]

शेर शाह सूरी का मकबरा
रोहतासगढ़ किले का महल परिसर

सासाराम बिहार के रोहतास जिले का एक शहर है। यह एक प्राचीन शहर है और भारतीय पौराणिक कथाओं के एक महान योद्धा सहस्रबाहु का घर बताया जाता है। यह सूर राजवंश का गढ़ भी है जिन्होंने 1540 - 56 के बीच उत्तर भारत के बड़े हिस्से पर शासन किया था।

भौगोलिक दृष्टि से सासाराम सोन नदी के पश्चिम में स्थित है। यह कैमूर पहाड़ी शृंखला पर स्थित है, जो विंध्य पर्वत श्रेणी का पूर्वी विस्तार है। लहरदार परिदृश्य कई झरनों का घर हैं।

पहुँचें[सम्पादन]

सासाराम नई दिल्ली और कोलकाता जैसे प्रमुख महानगरों द्वारा सड़क और रेलमार्ग दोनों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

रेल द्वारा[सम्पादन]

सासाराम, हावड़ा - मुगलसराय रेलमार्ग पर एक जंक्शन रेलवे स्टेशन है। यह आरा होते हुए बिहार राज्य की राजधानी पटना से भी जुड़ा हुआ है।

सड़क द्वारा[सम्पादन]

सासाराम ग्रैंड ट्रंक रोड (जीटी रोड) पर स्थित है, यह भारत के राजमार्गों (हाइवे) की पुरानी नंबरिंग में राष्ट्रीय राजमार्ग 2 कहलाता था जिसका नया क्रमांकन अब राष्ट्रीय राजमार्ग 19 (NH-19) है। इस प्रकार यह दिल्ली और कोलकाता से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है

हवाई मार्ग से[सम्पादन]

नजदीकी एयपोर्ट गया शहर में स्थित है। हालाँकि, अधिक आवागमन वाला बनारस भी नजदीक है। पटना भी विकल्प हो सकता है।

क्षेत्र[सम्पादन]

सासाराम का नक्शा
शेर शाह सूरी का मकबरा
शेरशाह का मकबरा
हसन शाह सूरी का मकबरा
इस्लाम खान मकबरा का अधूरा मकबरा
अलावल खान का मकबरा
कंधार किला
रोथसगढ़ किले का महल परिसर
गणेश मंदिर, रोहतासगढ़ किला

सासाराम में सार्वजनिक परिवहन की बहुत उचित व्यवस्था नहीं है। शहर घूमने के लिए पैदल चलना सबसे अच्छा विकल्प है। शहर के आस-पास के स्थानों के लिए ऑटो बुक करने की आवश्यकता पड़ सकती है। शहर से दूर स्थानों के लिए कारों को बुक करने की आवश्यकता पड़ती है।

देखें[सम्पादन]

सासाराम सूर राजवंश की सीट थी, जिन्होंने 1540 - 56 के बीच उत्तर भारत के बड़े हिस्से पर शासन किया था। इस शहर में सूर राजाओं के तीन मकबरे और कुछ संबंधित स्मारक हैं। शहर में कुछ प्राचीन हिंदू मंदिर, एक अशोकन शिलालेख, महापाषाण और शैल चित्र भी हैं। पास में कुछ किले और कई झरने हैं।

यहाँ से जायें[सम्पादन]