गया

विकियात्रा से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
विष्णुपद मन्दिर

गया भारत के बिहार राज्य में एक बौद्ध और हिंदू धर्म मानने वाले लोगों के लिए एक तीर्थस्थल है। यहाँ हिंदू धर्म के मानने वाले पितृपक्ष में अपने पितरों को पिण्डदान करने आते हैं। इसके अलावा यह बौद्ध धर्म के लिए भी अति महत्वपूर्ण है क्योंकि गौतम बुद्ध ने यहाँ ज्ञान प्राप्त किया था। इसीलिए इसका एक नाम बोधगया भी है। इसके अतिरिक्त यहाँ विष्णुपाद मंदिर भी प्रसिद्ध है।

अन्य जानकारी[सम्पादन]

इतिहास[सम्पादन]

12वीं सदी में मुहम्मद बख्तियार खिलजी ने गया पर हमला कर दिया था। लेकिन हिन्दू शासकों ने उसे हरा दिया। वर्ष 1764 में बक्सर की लड़ाई के बाद अंग्रेजों ने इस जगह पर कब्जा कर लिया। उसके बाद कई वर्षों तक स्वतंत्रता की लड़ाई लड़ने के बाद वर्ष 1947 में आजादी मिली।

मौसम[सम्पादन]

अप्रैल से जून तक यहाँ का मौसम 40 डिग्री सेल्सियस तक गर्म हो जाता है। जून के अंत से लेकर सितम्बर और अक्टूबर के शुरू में यहाँ बारिश का मौसम रहता है। इस दौरान रात का तापमान 26 डिग्री के आसपास रहता है और दिन में भी तापमान 33 डिग्री से अधिक नहीं होता है। नवम्बर से धीरे धीरे ठंड का मौसम शुरू होने लगता है। दिसम्बर और जनवरी माह में काफी ठंडा मौसम रहता है और फरवरी के बाद मार्च में धीरे धीरे ठंड कम होने लगता है और गर्मी के मौसम की शुरूआत होने लगती है।

यहाँ वर्षा ऋतु में सबसे अधिक बारिश जुलाई और अगस्त माह में होती है। इस दौरान माह के लगभग 20 दिन बारिश होती है। इन दो माह में 300 मिलीलीटर तक बारिश होता है। पूरे वर्ष में 1,130 मिलीलीटर औसत बारिश होती है।

पहुँचने के लिए[सम्पादन]

वायुमार्ग[सम्पादन]

  • गया के समीपस्थ, बोधगया नामक हवाईअड्डा है। यहाँ कई बौद्ध देशों से सीधे हवाई जहाज द्वारा पहुँचा जा सकता है।

रेलमार्ग[सम्पादन]

यह शहर रेल मार्ग द्वारा कोलकाता और नई दिल्ली से जुड़ा हुआ है।

सड़क मार्ग[सम्पादन]

यहाँ बिहार की राजधानी पटना और अन्य कई नगरों से सड़क मार्ग द्वारा पहुँचा जा सकता है। पटना से सरकारी और प्राइवेट बसें उपलब्ध हैं।

यहाँ से जाएँ[सम्पादन]