गया

विकियात्रा से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
विष्णुपद मन्दिर

गया भारत के बिहार राज्य में एक बौद्ध और हिंदू धर्म मानने वाले लोगों के लिए एक तीर्थस्थल है। यहाँ हिंदू धर्म के मानने वाले पितृपक्ष में अपने पितरों को पिण्डदान करने आते हैं। इसके अलावा यह बौद्ध धर्म के लिए भी अति महत्वपूर्ण है क्योंकि गौतम बुद्ध ने यहाँ ज्ञान प्राप्त किया था। इसीलिए इसका एक नाम बोधगया भी है। इसके अतिरिक्त यहाँ विष्णुपाद मंदिर भी प्रसिद्ध है।

परिचय[सम्पादन]

गया भारतीय राज्य बिहार का दूसरा बड़ा शहर है और झारखंड और बिहार की सीमा के पास फल्गु नदी के तट पर बसा हुआ है। इसकी प्रसिद्धि मुख्यतः एक धार्मिक नगरी के रूप में है। हिंदू धर्म के अनुयायी यह मानते हैं कि यहाँ एक बार पिंडदान कर लेने से फिर इसकी आवश्यकता नहीं रहती। पिंडदान एक धार्मिक क्रिया है जिसमें, पितृपक्ष (अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह सितंबर महीने में पड़ता है) में हिंदू लोग अपने पितरों यानी पूर्वजों की पूजा करते हैं और आटे के बने लड्डू की आकृति पिंड समर्पित करते हैं।

गया के मंदिरों में विष्णुपाद मंदिर प्रसिद्ध है जहाँ मान्यता अनुसार भगवन विष्णु के चरणों के निशान मौजूद हैं। इन चिह्नों के बारे में कहा जाता है कि गयासुर नामक दैत्य का वध करते समय भगवान विष्णु के ये पदचिह्न यहाँ पड़े थे। ब्रह्मयोनि पहाड़ी एक अन्य धार्मिक स्थल है जिसकी चोटी पर शिव मंदिर स्थापित है और यहाँ भी पिंडदान किया जाता है। कथाओं के मुताबिक़ सीता के शाप के कारण यहाँ से होकर बहने वाली फल्गु नदी नीचे चली गयी और पहाड़ी के निचले हिस्से से होकर बहती है। अन्य मंदिरों में मंगला गौरी का मंदिर प्रमुख है। इसे एक शक्तिपीठ के रूप में भी मान्यता प्राप्त है।

गया से 17 किलोमीटर की दूरी पर बोधगया स्थित है जो बौद्ध तीर्थ स्थल है और बौद्ध परंपरा की मान्यता के अनुसार यहीं बोधि वृक्ष के नीचे गौतम बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति हुई थी।

अन्य जानकारी[सम्पादन]

इतिहास[सम्पादन]

12वीं सदी में मुहम्मद बख्तियार खिलजी ने गया पर हमला कर दिया था। लेकिन हिन्दू शासकों ने उसे हरा दिया। वर्ष 1764 में बक्सर की लड़ाई के बाद अंग्रेजों ने इस जगह पर कब्जा कर लिया। उसके बाद कई वर्षों तक स्वतंत्रता की लड़ाई लड़ने के बाद वर्ष 1947 में आजादी मिली।

मौसम[सम्पादन]

अप्रैल से जून तक यहाँ का मौसम 40 डिग्री सेल्सियस तक गर्म हो जाता है। जून के अंत से लेकर सितम्बर और अक्टूबर के शुरू में यहाँ बारिश का मौसम रहता है। इस दौरान रात का तापमान 26 डिग्री के आसपास रहता है और दिन में भी तापमान 33 डिग्री से अधिक नहीं होता है। नवम्बर से धीरे धीरे ठंड का मौसम शुरू होने लगता है। दिसम्बर और जनवरी माह में काफी ठंडा मौसम रहता है और फरवरी के बाद मार्च में धीरे धीरे ठंड कम होने लगता है और गर्मी के मौसम की शुरूआत होने लगती है।

यहाँ वर्षा ऋतु में सबसे अधिक बारिश जुलाई और अगस्त माह में होती है। इस दौरान माह के लगभग 20 दिन बारिश होती है। इन दो माह में 300 मिलीलीटर तक बारिश होता है। पूरे वर्ष में 1,130 मिलीलीटर औसत बारिश होती है।

पहुँचने के लिए[सम्पादन]

वायुमार्ग[सम्पादन]

  • गया के नजदीक, बोधगया अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है जो दिल्ली और वाराणसी से घरेलू विमान सेवाओं और थाईलैंड और जापान से अंतर्राष्ट्रीय विमान सेवाओं द्वारा जुड़ा हुआ है। घरेलू उड़ान सेवा एक मात्र एयर इंडिया (AI-433) की है जो दिल्ली और बनारस से रोजाना चलती है।
  • दूसरा विकल्प पटना है। पटना हवाई अड्डा देश के लगभग सभी बड़े शहरों से विमान सेवाओं द्वारा जुड़ा हुआ है। पटना उतरने के बाद आपको 100 किलोमीटर की दूरी सड़क अथवा रेलमार्ग से तय करके गया पहुँचना होगा। बसें और टैक्सियाँ आसानी से उपलब्ध हो जाती हैं।

रेलमार्ग[सम्पादन]

यह शहर रेल मार्ग द्वारा भारत के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। गया जंक्शन, बिहार राज्य का दूसरा सबसे बड़ा रेलवे स्टेशन है और यहाँ से पटना, कोलकाता, पुरी, बनारस, चेन्नई, मुम्बई, नई दिल्ली, नागपुर, गुवाहाटी आदि के लिए सीधी ट्रेनें उपलब्ध हैं। प्रमुख रेल मार्ग जो इस स्टेशन से होकर गुजरते हैं:

  • ग्रैंड-कॉर्ड
  • हावड़ा-गया-दिल्ली मार्ग
  • हावड़ा-इलाहाबाद-मुंबई मार्ग
  • आसनसोल-गया रेलमार्ग
  • गया मुगलसराय खंड
  • पटना-गया रेलमार्ग
  • गया-किऊल रेल लाइन

सड़क मार्ग[सम्पादन]

यहाँ बिहार की राजधानी पटना और अन्य कई नगरों से सड़क मार्ग द्वारा पहुँचा जा सकता है। पटना से सरकारी और प्राइवेट बसें उपलब्ध हैं।

यहाँ से जाएँ[सम्पादन]

  • बराबर गुफाएँ, ये चट्टान काट कर निर्मित की गयी गुफाएँ हैं जो अब भी ठीक हालत में मौजूद ऐसी गुफाओं में भारत में सबसे पुरानी हैं। ये सभी मौर्य काल में (322–185 ईसापूर्व) और कुछ में सम्राट अशोक के आदेशलेख खुदे हुए हैं। यह गुफाएँ बिहार के जहानाबाद जिले में हैं, गया से तकरीबन 24 किलोमीटर उत्तर में।
  • बोध गया — इस क्षेत्र का सबसे प्रमुख स्थान है और गया से कुछ ही दूरी पर है। यह स्थान बौद्ध धर्म के लोगों के लिए महत्वपूर्ण है और उनके चार प्रमुख तीर्थों में से एक है। यहाँ गौतम बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ माना जाता है और यहाँ का प्रमुख मंदिर महाबोधि मंदिर है।
  • ब्रह्मजौनी पहाड़ी
  • काकोलत झरना
  • नालंदा - ऐतिहासिक पर्यटन का महत्वपूर्ण स्थान है। यहाँ प्राचीन काल में नालंदा विश्वविद्यालय स्थापित था।
  • पावापुरी
  • राजगीर - राजगृह के नाम से यह प्राचीन नगर, मगध राज्य की राजधानी था। यहाँ से राजधानी स्थानांतरित करके पाटलिपुत्र ले जाई गयी थी, जिसे अब पटना के नाम से जाना जाता है।