इस्लाम

विकियात्रा से
Jump to navigation Jump to search


इस्लाम दुनिया के सबसे महत्वपूर्ण धर्मों में से एक है, अनुयाइयों की संख्या में ईसाई धर्म के बाद दूसरा स्थान है। इसके अनुयायियों को मुसलमान और इनके प्रार्थना स्थल को, मस्जिद कहते हैं। इस्लाम अधिकांश मध्य पूर्व, उत्तरी अफ्रीका, सहेल और मध्य एशिया का मुख्य धर्म है, और दक्षिण और दक्षिणपूर्व एशिया, पश्चिम और पूर्वी अफ्रीका में भी व्यापक है। आज दुनिया के अधिकांश देशों में मुसलमान हैं, जो मुख्य रूप से आप्रवासन के कारण हैं। मक्का की वार्षिक तीर्थयात्रा, हज, सबसे बड़े मानव प्रवासियों में से एक है और दुनिया भर से मुसलमानों को एक साथ लाता है। कुछ मुस्लिम अन्य इस्लामी धार्मिक स्थलों की भी तीर्थयात्रा करते हैं। इस्लाम के नाम पर कई साइटें यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में हैं।

समझें[सम्पादन]

इस्लाम एक एकेश्वरवादी धर्म है (जो कि, एक ईश्वर पर विश्वास करता है, जिसे अल्लाह कहा जाता है, "भगवान" के लिए अरबी में "अल्लाह"। यह इब्राहीमी धर्म है जैसे यहूदी धर्म, ईसाई धर्म और बहाई धर्मो, ने पैग़म्बर हजरत इब्राहीम (अब्राहम) के पुत्र हजरत इश्माएल (अरबी में, इस्माइल) के माध्यम से अपनी आध्यात्मिक विरासत का पता लगाया। यहूदियों और ईसाइयों के विपरीत, जो मानते हैं कि इसहाक का हजरत इब्राहीम द्वारा बलिदान करने का आदेश दिया गया था, लेकिन मुसलमानों का मानना ​​है कि यह इश्माएल (इस्माइल) थे। इस्लाम के पहले नबी, मुसलमानों के अनुसार, पहला आदमी, हजरत एडम (अरबी में, आदम) और बाइबल में उल्लेखित थे, उन्हें भी मुसलमानों को पैग़म्बर के रूप में माना जाता है, हजरत मुहम्मद साहब को इस्लाम के अंतिम और सबसे महत्वपूर्ण पैग़म्बर के रूप में माना जाता है। इस्लाम और ईसाई धर्म के बीच प्रमुख सैद्धांतिक अंतर यह है कि इस्लाम ने इस दावे को खारिज कर दिया कि यीशु (ईसा मसीह) ईश्वर है और इसके साथ ही परमेश्वर का संपूर्ण विचार ट्रिनिटी के रूप में है। इस्लामी विश्वास में केवल एक ही भागवान (अल्लाह) है, अविभाज्य है, और यीशु (ईसा मसीह) एक पैग़म्बर हैं, लेकिन कोई भी इंसान ईश्वर नहीं हो सकता। यीशु को एक महान सम्मान के हकदार हैं, जैसा अन्य पैग़म्बर (ईश्वरदूत) हुआ करता है, इस्लाम अनुसार लेकिन कोई भी व्यक्ति पूजा का पात्र नहीं है।

इतिहास[सम्पादन]

इस्लाम का उदय सातवीं सदी में अरब प्रायद्वीप में हुआ। इसके अन्तिम नबी हजरत मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का जन्म 570 ईस्वी में मक्का में हुआ था। लगभग 613 इस्वी के आसपास हजरत मुहम्मद साहब ने लोगों को अपने ज्ञान का उपदेशा देना आरंभ किया था। इसी घटना का इस्लाम का आरंभ जाता है। हँलांकि इस समय तक इसको एक नए धर्म के रूप में नहीं देखा गया था। परवर्ती वर्षों में हजरत मुहम्म्द सहाब के अनुयायियों को मक्का के लोगों द्वारा विरोध तथा हजरत मुहम्मद साहब के मदीना प्रस्थान (जिसे हिजरा नाम से जाना जाता है) से ही इस्लामी (हिजरी) पंचांग माना गया। हजरत मुहम्मद साहब की वफात के बाद अरबों का साम्राज्य और जज़्बा बढ़ता ही गया। अरबों ने पहले मिस्र और उत्तरी अफ्रीका पर विजय प्राप्त की और फिर बैजेन्टाइन तथा फारसी साम्राज्यों को हराया। यूरोप में तो उन्हें विशेष सफलता नहीं मिली पर फारस में कुछ संघर्ष करने के बाद उन्हें जीत मिलने लगी। इसके बाद पूरब की दिशा में उनका साम्राज्य फेलता गया। सन् 1200 ईस्वी तक वे भारत तक पहुँच गए।

सुन्नी और शिया

मुस्लिम जनसंख्या के मामले में दक्षिण पूर्व एशिया, दक्षिण एशिया, अफ्रीका और ज्यादातर मध्य पूर्व में सुन्नियां बहुसंख्यक हैं दुनिया के 90% मुसलमान सुन्नी हैं और शेष वाकी लगभग 10% शिया हैं, लेकिन पूरी स्थिति जटिल है; मुख्य रूप से सुन्नी क्षेत्रों में शिया अल्पसंख्यक हैं और इसके विपरीत। इंडोनेशिया में सबसे बड़ी संख्या में सुन्नी मुसलमान हैं, जबकि ईरान में दुनिया में शिया मुस्लिमों की सबसे बड़ी संख्या है। पाकिस्तान में दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी सुन्नी और दूसरी सबसे बड़ी शिया मुस्लिम आबादी है। पूरे मुद्दे को उलझाना यह तथ्य है कि शिया बहुसंख्यक देशों के कुछ हिस्सों पर ऐतिहासिक तौर पर सुन्नियों और इसके विपरीत शासन किया गया है। उदाहरण के लिए इराक में सद्दाम हुसैन एक सुन्नी मुस्लिम शासक थे, लेकिन इराक 60% शिया देश है। इसी के विपरीत सीरिया के वर्तमान राष्ट्रपति बशर अल-असद एक शिया परिवार से लेकीन सीरिया की लगभग 70% जनसंख्या सुन्नी मुसलमान हैं सीरिया में अशद परिवार पिछले 35 सालों से लगातार सीरिया पर शासन कर रहा है।

त्योहार[सम्पादन]

दुनिया में मुस्लिम समूह, अलग अलग पर्वों को अलग अलग दिवसों में मनाते हैं। हर दिवस का अपना एक महत्व होता है।

  • इस्लामी नया वर्ष - 1 मुहर्रम
  • आशूरा 10 मुहरम - हजरत हुसैन इब्न अली और उनके साथी कर्बला के युद्ध में शहीद हुए थे।
  • मीलाद उन-नबी - 12 रबीउल अव्वल - पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद साहब की जन्म तिथी। ध्यान रहे कि इसी तिथी को मुहम्मद साहब का देहांत भी हुआ था।
  • शब-ए-मेराज - 27 रजब - इस को लैलतुल मेराज भी कह्ते हैं। इस्रा और मेराज की रात को हज़रत मुहम्मद स.अ.व. मेराज की यात्रा किये।
  • शब-ए-बारात] - इसको लैलतुल बारात भी कहते हैं। यह शाबान मास में आती है।
  • रमज़ान (महीना) - इस महीने में उपवास रखा जाता है, और परम पवित्र माना जाता है।
  • शब-ए-क़द्र - यह रात रमज़ान महीने की २७ तारीख को आती है।
  • जुमातुल विदा - रमज़ान महीने का आखरी जुमा (शुक्रवार)
  • ईद उल-फ़ित्र - यह ईद शव्वाल मास की पह्ली तारीख को मनाई जाती है।
  • ईद-उल-अज़हा या बक्रीद - ज़ु अल-हज्जा के १० वीं तारीख़ को यह ईद मनाई जाती है।

मुस्लिम समुदाय[सम्पादन]

इस्लाम के दो मुख्य संप्रदाय सुन्नी और शिया पंथ हैं। वे मुख्य रूप से इस बात पर निर्भर करते हैं कि उम्मह ("वफादार") को किस तरह नियंत्रित किया जाना चाहिए, और इमाम की भूमिका। सुन्नियों का मानना है कि सनाह के अनुसार पैगंबर के सच्चे राजनीतिक उत्तराधिकारी को शूरा (परामर्श) के आधार पर चुना जाना चाहिए, जैसा सैकिफा में किया गया था, जो हजरत मुहम्मद सहाब के ससुर अबू बक्र का चयन करते जो उत्तराधिकारी चुने गये थे शिया, दूसरी ओर, मानते हैं कि हजरत मुहम्मद सहाब ने अपने दामाद हजरत अली इब्न अबी तालिब को अपने असली राजनीतिक और धार्मिक उत्तराधिकारी के रूप में नियुक्त किया था। दुनिया में मुसलमानों की भारी संख्या में 87-90% के बीच सुन्नी है। शिया और अन्य समूह शेष मुस्लिम आबादी का करीब 10-13% हिस्सा हैं। ईरान -96%, अज़रबैजान-85%, इराक -60 / 70%, बहरीन -70%, यमन -47%, तुर्की- 28%, लेबनान -41%, सीरिया -17%, अफगानिस्तान -15%, पाकिस्तान -25%, और भारत -5%। खुरिजा मुस्लिम, जो कम ज्ञात हैं, ओमान देश में 75% आबादी वाले लोगों का अपना गढ़ है।

इस्लाम तथा राजनीति[सम्पादन]

इस्लामी राजनीति में प्रमुख रूप से शिया और सुन्नी समुदाय को सामिल किया जाता।

इस्लामी कानून[सम्पादन]

पाँच मूल स्तम्भ[सम्पादन]

इस्लाम में पांच सर्वोच्च नियम या पांच सबसे महत्वपूर्ण कर्तव्यों हैं, जिन्हें "इस्लाम के पांच स्तंभ" कहा जाता है, जिन्हें सभी मुसलमानों के लिए उनके जीवन के दौरान पालन करना अनिवार्य माना जाता है:

विश्वास (शाहदा) - शाहदा एक गवाही है, धर्म में विश्वास की घोषणा और भरोसा है कि भगवान को छोड़कर कोई ईश्वर नहीं है और ना ही कोई पूजनीय है, और हज़रात मुहम्मद सहाब ईश्वर के संदेशवाहक है (अरबी में, ला इलाहा इल्लाह, मुहम्मदुर रसूलुलाह)। विश्वास के इस कथन का पाठ सभी मुस्लिमों के लिए विश्वास की सबसे आम घोषणा है, और इस लिए अरबी सुलेख अक्सर सऊदी अरब और इराक तथा इस्लामी देशों के आधुनिक इस्लामी झ पर पाया जाता है।

प्रार्थना (सलाह) - सलाह इस्लामी प्रार्थना है। मुसलमान मक्का शहर में स्थित काबा के सामना करते हुए रोजाना पांच बार प्रार्थना नमाज़ पड़ते हैं। सलाह का अभ्यास कहीं भी किया जा सकता है, लेकिन यह ज्यादातर मस्जिदों में किया जाता है, प्रत्येक मुस्लिम निवास वाले देश या हर शहर में मस्जिद और छोटे प्रार्थना कक्ष बनाए जाते हैं। शुक्रवार (जुम्मा) को, मुस्लिम पुरुषों को एक मस्जिद में प्रार्थना करते हैं जिस का उद्देश्य सभी मुस्लिमो का एक जगह एकत्र होना, मुस्लिम महिलाएं घर में प्रार्थना करती हैं क्योंकि महिलाओ को मस्जिद मे प्रवेश करने की अनुमति नहीं है।

दान (जाकत) - जकात दान है कि हर मुस्लिम, अपने धन के आधार पर, इस्लामी कानून द्वारा प्रतिवर्ष भुगतान करने के लिए आवश्यक है। आमतौर पर धर्मार्थ संगठनों के साथ-साथ जरूरतमंद तथा गरीब लोगों को धन दिया जाता है।

उपवास, रमजा (सैम) - साम अनुष्ठान उपवास है जो मुसलमानों के लिए रमजान महीने के दौरान करना अनिवार्य है। मुसलमान इस महीने के दौरान सुबह, से शाम तक भोजन, पेय, धूम्रपान और संभोग नहीं कर सकते, और अधिकतर प्रार्थना और चिंतन में संलग्न रहते हैं।

तीर्थयात्रा (हज) - एक बार जीवनभर में, मुसलमानों को हज तीर्थयात्रा पर मक्का जाना पड़ता है यदि वे यात्रा, वित्तीय और शारीरिक रूप से यात्रा कर सकते हैं। अपने जीवन में मक्का जाने के लिए धन इकट्ठा करे। जिन लोगों ने हज का प्रदर्शन किया है उन्हें अक्सर हाजी (पुरुष) या हज्जन (महिलाओं) के शीर्षक से संबोधित किया जाता है।

पवित्र शहर[सम्पादन]

मुस्लिम जनसंख्या का प्रतिशत मानचित्र

इस्लामी के आर्किटेक्चर वास्तुकला का अन्य कलाओं और शिल्प पर भारी प्रभाव पड़ा है मध्य पूर्व, मध्य एशिया, उत्तरी अफ़्रीका, पाकिस्तान, मलेशिया या इंडोनेशिया में लगभग हर शहर में इस्लामी बस्तुककला कलाकारी देखने को मिलती है, अधिकतर मस्जिदों में देखने को मिलती है। जिसके साथ भारत, काकेशस , स्पेन और पूर्वी अफ्रीका की कुछ जगहों पर इस्लामी वस्तकला का प्रभाव अलग दिखाई देता है। इसी आधार पर निचे कुछ बेहतरीन स्थानों की सूची ह।

मध्य पूर्व[सम्पादन]

अरब[सम्पादन]

  • मक्का पैग़म्बर हज़रत मुहम्मद सहाब का जन्मस्थान और वार्षिक हज तिर्र्थयात्रा का अंत बिंदु है। सऊदी अरब के कानून के तहत गैर-मुस्लिमों के लिए प्रवेश प्रतिबंधित (वर्जित) है।
  • मदीना शहर हज़रत मुहम्मद सहाब की हिज़रत के लिए जाना जाता है। और आज इस्लाम के सबसे पवित्र शहरों में से एक माना जाता है और गैर-मुसलमानों को भी रोक दिया जाता है।

लेवंत[सम्पादन]

  • यरूशलेम इस शहर को इस्लाम में तीन सबसे पवित्र स्थलों में से एक माना जाता है और जिसे अरबी अरब नाम "अल कुद्दस" से जाता है।

इराक[सम्पादन]

  • करबाला 61 हिजरी या 680 ईस्बी में हज़रात इमाम हुसैन बिन अली को यह एक लड़ाई में शहीद कर दिया था। यह अभी भी मनाया जाता है, खासकर शिया समुदाय का सबसे पवित्र स्थान है।
  • नजफ शिया समुदाय के लिए सबसे पवित्र शहरों में से एक, एक प्रमुख तीर्थ स्थान है, यह पर हज़रात अली का और कई अन्य धार्मिक मकबरे है।

ईरान[सम्पादन]

  • इस्फहान दुनिया की सबसे मशहूर मस्जिदों के साथ-साथ प्रभावशाली कब्रों और ऐतिहासिक महलों का घर है।
  • मशहाद मशहाद पवित्र शहर शानदार हज़रत इमाम रेजा मकबरा का है, जो आठवीं के शिया इमाम को समर्पित है, जिन्हें 9वीं शताब्दी में शहीद किया गया था।
  • क्यूम शियाओं का एक बड़ा केंद्र
  • शिराज प्रभावशाली कब्रों तथा मकबरों को प्रस्तुत करता है यहाँ नसीर अल-मुल्क मस्जिद भी है, जिसमें रंगीन सीसा और खूबसूरत टाइलों की छत है।

तुर्की[सम्पादन]

  • हारान - आजकल अपने ग्रामीण अनुभव और पारंपरिक व्यवहार के लिए बेहतर जाना जाता है, यह गांव इस्लामी शिक्षा के शुरुआती केंद्रों में से एक था, जहां खगोल विज्ञान, दर्शन, प्राकृतिक विज्ञान के शास्त्रीय ज्ञान और ग्रीक से अरबी में दवा विधी का अनुवाद किया गया था। एक प्राचीन इस्लामी विश्वविद्यालय के खंडहर मौजूद हैं। आस-पास उर्फ इस्लामी वास्तुकला और पैगंबर हज़रत इब्राहिम से जुड़े मिथकों में भी समृद्ध है।
  • इस्तांबुल पूर्व नाम में कॉन्स्टेंटिनोपल, यह सबसे बड़ा मुस्लिम साम्राज्यों में से एक का आध्यात्मिक और राजनीतिक केंद्र था, तुर्क साम्राज्य, और इस्लाम की सबसे पवित्र तीर्थ स्थलों में से एक है, पैगंबर हज़रत मोहम्मद सहाब के सहाबी हज़रत अबू अय्युब अल अंसारी, जो 8 वीं शताब्दी में कॉन्स्टेंटिनोपल की पहली घेराबंदी के दौरान मृत्यु हो गई थी और यहां दफनाया गया था। इस्तांबुल में अनेक स्थल देखने के योग्य हैं।
  • कोन्या महान सूफी शिक्षक रुमी नासरुद्दीन का घर (जिनका मकबरा पास के शहर "अक्सेहिर" में है), बहुत बढ़िया इस्लामी वास्तुकला के साथ बनाया गया है।

उत्तरी अफ्रीका[सम्पादन]

  • काहिरा (मिस्र) का प्राचीन शहर है इस्लामिक युग के दौरान अफ्रीका दीप में इस्लाम का केन्द्र था वर्तमान में की मिस्र की राजधानी है, काहिर निश्चित रूप में अरब दुनिया का सांस्कृतिक केंद्र है। यह प्रसिद्ध और प्राचीन अल अजहर विश्वविद्यालय का भी है और ऐतिहासिक मस्जिदों का हिस्सा है। मिस्र अरबी अरब के विशाल बहुमत के लिए सुगम है और जैसे की मिस्र के टीवी और फिल्मों में मिस्र से परे खुद का प्रभाव है।
  • कैराउआन (ट्यूनीशिया) एक प्रमुख तीर्थ स्थान और एक यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल भी है।

दक्षिण एशिया[सम्पादन]

  • कहने को तों ये मुसलमान ने भारत में इमारतों क़ा निमार्ण कराया था पर हकीकत कुछ और हि हैं , जो इतिहासकारों द्वार छुपाई गयी हैं ! ताजमहल क़ा असली नाम तेजौमहालय हैं जो कि भगवान शिव क़ा एक बहुत हि ऐतिहासिक मंदिर था जिसे अरब आक्रांताओं ने नाम बदल कर ताजमहल कर दीया , उसी प्रकार धुर्व स्तंभ क़ा नाम बदल कर कुतुबमीनार कर दीया गया , ये जितने भी आक्रांता जो अरब या ईरान , अफगान से आए थर , अपने देश में तों एक भी स्मारकों क़ा निमार्ण नहीं कर सके , और भारत आते हि इन्होंने इतने निमार्ण कर दिए , ये सभी जो इमारत के नाम इन शासकों द्वारा दिए गए हैं ये सारे मिथक हैं !
  • आगरा (भारत) सबसे प्रसिद्ध मुगल साम्राज्य मुगल की वास्तुकला और दुनिया में सबसे प्रसिद्ध इस्लामी इमारतों में से एक है: ताजमहल इसके अलावा, आगरा का अपना सुंदर किला है, और पास में अच्छी तरह से संरक्षित शाही शहर फतेहपुर सीकरी है, जिसे मुगल सम्राट अकबर के लिए बनाया गया था।
  • दिल्ली (भारत) भारत की राजधानी से पहले कई इस्लामी राजवंशों की राजधानी थी, खासकर मुगल साम्राज्य। और पूर्वी काल के कई शानदार स्मारकों और मस्जिदों का स्थल है, जिनमें लाल किला, सम्राट हुमायण की समाधी और जामा मस्जिद शामिल है।
  • लाहौर (पाकिस्तान) एक महत्वपूर्ण शहर था और कभी-कभी मुगल साम्राज्य की राजधानी थी। जैसे, उस समय बहुत प्रभावशाली आकर्षण हैं, जिसमें बादशाही मस्जिद, लाहौर किला, और शानदार तीन-स्तरीय शालीमार उद्यान शामिल हैं।

मध्य एशिया[सम्पादन]

  • बुखारा और समरकंद उज़्बेकिस्तान में इस्लामी विज्ञान को सीखने की दोनों प्रमुख जगहें थीं, जिसमें नाजुक टाइलवर्क के साथ बड़ी संख्या में प्राचीन इमारतों की विशेषता है। मध्य एशिया में रेशम रोड (सिल्क मार्ग) भी मुसलमानो का एक मुख्य केंद्र रहा है जिस कारण इस्लामी वस्तुकला का प्रभाब साफ़ देखाई देता हैं।
  • तुर्कस्तान, कजाकिस्तान, 12 वीं शताब्दी के कवि अहमद यास्वी का मकबरा है जो तुर्किक मुसलमानों के बीच एक बहुत सम्मानित व्यक्ति थें। वह यशस्विया के सूफी आदेश के संस्थापक थे, जो पूर्व इस्लामी तुर्किक शमनवाद से प्रभावित थे।

यूरोप[सम्पादन]

  • कॉर्डोबा, अल-अंडलस की राजधानी था, उस समय के कई महत्वपूर्ण अवशेष शामिल हैं, विशेष रूप से जैसे एक सुन्दर, बड़ी मस्जिद जो बाद में स्पेन के पुन स्थापना के बाद एक चर्च में परिवर्तित कर दी गयी है।
  • ग्रेनाडा, इस्लामी ख़िलाफ़त के दौरान एक महत्वपूर्ण केन्द्र था।
  • लार्नाका, इस शहर पर मुस्लिमों ने 7 वीं शताब्दी में घेराबंदी के दौरान अपने आधीन कर लिया था। जो इस्लामी वास्तुकला स्थलों में से एक है।

आदर[सम्पादन]

गैर-मुस्लिमों को मस्जिदों में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है। यदि आपको मस्जिद जाने के लिए आमंत्रित किया जाता है, तो रूढ़िवादी रूप से तैयार होना और सम्मान दिखाना उचित है; विवरण जगह के हिसाब से भिन्न होते हैं लेकिन यदि आप एक महिला हैं, तो आपके बालों, धड़, बाहों और पैरों को ढकने अन्यवार्य है, और जो लोग प्रवेश करते हैं उन्हें अपने जूते उतरने पड़ेंगे। मस्जिद जाने से पहले स्थानीय नियमों के बारे में कुछ सीखना बहुत अच्छा विचार है, खासकर यदि आप एक गैर-मुस्लिम हैं। यह भी ध्यान रखें कि सभी मस्जिदों में पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग-अलग वर्ग या प्रार्थना कक्ष होता अधिकतर यूरोप में ।

अधिकांश मुस्लिम या वहुसंख्यक मुस्लिम पश्चिमी देशों में कई गैर-मुसलमानों की तुलना में अपने धर्म को अधिक गंभीरता से लेते हैं, इसलिए कुरआन और हदीस की शिक्षाओं जैसे धार्मिक मुद्दे पर कोई हंसी नहीं कर सकता, और यहां तक ​​कि आप जो भी कर सकते हैं विचार करें कि सौहार्दपूर्ण आलोचना आपको कुछ स्थितियों में शारीरिक खतरे में नहीं डाल सकती है या आप कुछ देशों में निंदा के लिए मुकदमा चला सकते हैं। लेकिन यदि आप इस्लाम के बारे में अधिक जानने में वास्तव में रूचि रखते हैं तो सवाल पूछने से डरो मत; ईसाईयों की तरह, मुस्लिमों को उनके धर्म के बारे में जानकारी देने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है, उनके विश्वास के अनुसार कि कुरान में उल्लिखित सीधे मार्ग के बाद पापमुक्त लोगों को जजमेंट डे (अंतिम दिन या प्रलय) पर स्वर्ग में जाने का मौका मिलता है।

इस्लामी कला[सम्पादन]

इस्लामी वास्तुकला[सम्पादन]

मुस्लिमों द्वारा बनाई गई डिजाइन और शैली और इस्लामी संस्कृति में उनके भवनों और संरचनाओं के निर्माण में वास्तुशिल्प प्रकार शामिल हैं: मस्जिद, मकबरे, महल और किले। शायद इस्लामी कला की सबसे महत्वपूर्ण अभिव्यक्ति वास्तुकला है, विशेषकर मस्जिद की वास्तुकला। इस्लामी वास्तुकला माध्यम से, इस्लामी सभ्यता के भीतर भिन्न-भिन्न संस्कृतियों के प्रभाव को सचित्र किया जा सकता है। आम तौर पर, इस्लामी ज्यामितीय पैटर्नों और पत्ते आधारित अरबस्क शैली का प्रयोग प्रमुख था। वहाँ चित्रों के बजाय सजावटी सुलेख का उपयोग किया गया था क्योंकि मस्जिद वास्तुकला में जीवित चित्रण हराम (वर्जित) थे। ध्यान दें कि मुस्लिम स्थापत्य में सजाने के लिए जीवित वस्तुओ का चित्रण जैसे मानव, पशु आदि का चित्रण निषिद होने के कारण लिखावट एवं ज्यमितीय डिजाइनों का अंकन प्रचलित था जो अरबस्क शैली या अरब मुस्लिम शैली कहलाती है भारत में भी इस शैली का प्रभाव मुस्लिम शासन के दौरान रहा है।

वातचीत[सम्पादन]

देखें[सम्पादन]

करें[सम्पादन]

पढें[सम्पादन]

ईसाई के दुनिया में अपने विश्विद्यालय खोलने से पहले मुस्लिम दुनिया में इस्लाम के विश्वविद्यालय थे। जो कुछ आज भी सक्रिय हैं, जिसमें फ़ेज़, मोरक्को में अल-क़ारवायिन विश्वविद्यालय भी शामिल है, जिसने 859 ईस्वी के बाद से संचालित किया है, और 972 ईस्वी में स्थापित अल-अजहर विश्वविद्यालय काहिरा मिस्र में है। इस्लामी दुनिया भर में कई इस्लामी विश्वविद्यालय हैं।

कार्य[सम्पादन]

खरीदें[सम्पादन]

खरीदने के लिए विशेष रूप से इस्लामी वस्तुओं में प्रार्थना की वस्तुएं शामिल हैं; हाजी टोपी और अन्य विशेष रूप से धार्मिक परिधान (हेज, फीज़, गानकॉक्स्, आदि); मक्का से ज़मज़म पानी; कुरान और हदीस के संग्रह हैं।

भोजन[सम्पादन]

इस्लामी कानून में, कई खाद्य पदार्थों को वर्जित (अरबी: हराम) मना किया जाता है, जिसमें सूअर-व्युत्पन्न जिलेटिन और सुअर का चमड़े, साथ ही साथ शराब और कोई भी व्यंजन जो शराब का इस्तेमाल होता हैं। जिस खाद्य की अनुमति है हलाल के रूप में जाना जाता है और प्रमाणीकरण की प्रक्रिया के माध्यम से यह सुनिश्चित करने के लिए हो सकता है कि यह इस्लामी शिक्षण के अनुरूप है। हलाल शब्द का उपयोग अरब देशो में होता था लेकिन अब यूरोपीय और उत्तर और दक्षिण अमेरिकी देशों में पर्याप्त मुस्लिम आबादी के साथ प्रयोग किया जाता हैं। मुस्लिम द्वारा एक जानवर निश्चित तरीके से कत्ल (ज़ीवा) किया जाता है, जिसमें अल्लाह का नाम ज़ीवा करने के समय लिया जाता है। मछली को हमेशा हलाल माना जाता है, जब तक कि यह किसी भी हराम खाद्य पदार्थ के संपर्क में नहीं आयी है। गैर-मछली समुद्री भोजन जैसे स्क्विड, प्रॉन, केकड़ा, लॉबस्टर या शेलफिश के बारे में बहस है; प्रश्न में इस्लाम के संप्रदाय के आधार पर ये हलाल हो सकते हैं या नहीं भी हो सकते हैं।

पीना[सम्पादन]

इस्लामी धर्म ग्रंथ पवित्र कुरान में मादक (एल्कोहालिक) पदार्थों के सेवन की अनुमति नही है कई मुस्लिम बहुसंख्यक देशों में, शराब की बिक्री और खपत को प्रतिबंधित कर दिया गया है, और कुछ में, यह निषिद्ध है। रमजान के दौरान, आप बहुसंख्यक मुस्लिम देशों में दिन के समय में कुछ भी पीना ओर खा नही सकते वे रमजान के दौरान इस मुद्दे के बारे में सख्त हैं।


Create category