संयुक्त राज्य अमेरिका

विकियात्रा से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
अमेरिका

संयुक्त राज्य अमेरिका उत्तरी अमेरिका में एक बड़ा देश है, जिसे अक्सर अमेरिका के रूप में जाना जाता है। इसमें दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी जनसंख्या; 32 करोड़ से अधिक लोग रहते हैं। इसमें घनी आबादी वाले शहर शामिल हैं जिनमें विशाल उपनगरों और प्राकृतिक सौंदर्य के विशाल निर्जन क्षेत्र शामिल हैं। इसका 17वीं सदी से बड़े पैमाने पर आप्रवासन का इतिहास रहा है। साथ ही ये दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भी है। इसे दुनिया में सबसे शक्तिशाली और प्रभावशाली देश के रूप में माना जाता है।

खरीदना[सम्पादन]

मुद्रा[सम्पादन]

अमेरिकी नोट
अमेरिकी नोट

इस देश की आधिकारिक मुद्रा अमेरिकी डॉलर ($) है, इसके 100 अलग अलग भागों को सेंट (¢) कहा जाता है। हालांकि सेंट लिखने के जगह इसे दशमलव में ही ज्यादातर लिखा जाता है। विदेशी मुद्रा का उपयोग ना के बराबर होता है। कुछ बड़े होटल चेक या दूसरे मुद्रा में रकम ले सकते हैं। ऐसे होटल खास तौर से सीमा से सटे रहते हैं। कनाडा की सीमा के पास स्थित होटलों में कनाडा की मुद्रा चल जाती है, लेकिन बहुत कम दर मिलता है।

डॉलर को कभी कभी बक भी कहा जाता है, तो 5 बक का अर्थ 5 डॉलर से होता है। सामान्यतः अमेरिकी बैंक नोट या बिल $1, $5, $10, $20, $50 और $100 के होते हैं। $2 के नोट का निर्माण अभी भी हो रहा है, लेकिन इसका उपयोग कहीं दिखता नहीं है। 1960 के दशक के बाद से $100 का निर्माण नहीं हो रहा है, और इसे सामान्य उपयोग से भी हटा दिया गया है। $100 या कभी कभी $50 के नोट भी बहुत मूल्यवान होने के कारण छोटे लेनदेन में अस्वीकार कर दिये जाते हैं। सभी $1 और $2 डॉलर के नोट और कुछ पुराने नोटों का रंग हरा होता था। इसे काले और हरे रंग के स्याही से बनाया जाता था। नए वाले नोटों में $5, $10, $20, $50 और $100 के नोट आते हैं। ये नोट थोड़े अधिक रंगों वाले होते हैं। सभी नोटों का आकार एक समान ही होता है। ये नोट कभी बंद नहीं होते हैं और अलग अलग तरह के नोट एक साथ भी उपयोग किए जाते हैं। कुछ पुराने नोटों में कई तरह की विशेषता नहीं होती है, जिससे नकली नोट का खतरा भी हो सकता है, लेकिन इन्हें भी बहुत कम बार ही कोई दुकानदार लेने से मना करता है।

मानक सिक्कों में पेनी (1¢, तांबे का रंग), निकल (5¢, चाँदी का रंग), छोटा डीम (10¢, चाँदी का रंग) और क्वार्टर (25¢, चाँदी का रंग) हैं। इन सिक्कों में उनका मूल्य अंकों में नहीं, केवल शब्दों में लिखा होता है, जैसे "एक सेंट", "पाँच सेंट", "एक डीम", और "क्वार्टर डॉलर" आदि। जब इसे मूल्य के अनुसार देखते हैं, तो आकार का कोई महत्व नहीं होता है। डीम सबसे छोटा सिक्का है और उसके बाद पेनी, निकल और क्वार्टर आते हैं। आधा डॉलर (50¢, चाँदी) और डॉलर ($1, चाँदी या सोना) के सिक्के भी मौजूद हैं, लेकिन उनका उपयोग बहुत ही कम होता है। सिक्कों से चलने वाले मशीन केवल निकल, डीम, क्वार्टर और $1 व $5 के नोटों को ही स्वीकार करते हैं। हालांकि कुछ डॉलर के सिक्के को भी ले लेते हैं। कुछ बड़े मशीन, जो बसों में या डाक घरों में होते हैं, वे लोग $10 या $20 भी ले सकते हैं। कनाडा के सिक्कों का आकार भी समान ही होता है, जिसे मशीन ज्यादातर अस्वीकार कर देता है। दूसरी ओर लोग कभी इस बात पर गौर नहीं करते हैं, और कनाडा के सिक्कों को अमेरिका के सिक्कों के साथ मिला देते हैं। इस तरह के मिलाने की घटना सबसे ज्यादा उत्तरी भाग में देखने को मिलती है। कई सारे मुद्राओं में सिक्कों को नहीं बदला जा सकता है और हवाई अड्डों में यूनिसेफ दान करने की पेटी प्रदान करता है, जिससे आप दूसरे देश जाने से पहले किसी अच्छे काम के लिए उसे दे सकते हैं।

मुद्रा परिवर्तन[सम्पादन]

अमेरिकी डॉलर की मुद्रा परिवर्तन दर

  • €1 ≈ $1.14
  • ब्रिटिश £1 ≈ $1.3
  • कनाडाई $1 ≈ $0.77

मुद्रा परिवर्तन की दर 3 जुलाई 2017 के अनुसार है।

कुछ तटीय जगहों या सीमा से सटे शहरों और अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डों को छोड़ कर बाकी जगहों में शायद ही आपको मुद्रा विनिमय केन्द्र अर्थात मुद्रा बदलने वाला स्थान दिखे। कुछ बैंक भी मुद्रा विनिमय की सुविधा देते हैं। बहुत सारे मुख्य अमेरिकी हवाई अड्डों में आपको इसकी सुविधा मिल जाएगी, जो मुख्यतः ट्रैवलएक्स या आईसीई के होते हैं। लेकिन इस तरह से बदलने में बहुत कम रकम ही मिलती है और इस बदलाव के लिए आपको रकम ज्यादा देनी होती है। इस कारण आपके लिए यही अच्छा होगा कि आप अपने देश में ही यात्रा करने से पहले अमेरिकी डॉलर साथ ले लें।

बातचीत[सम्पादन]

लगभग सभी अमेरिकी अंग्रेजी बोलते हैं। अमेरिकी अंग्रेजी दुनिया के अन्य हिस्सों में अंग्रेजी बोलने वालों से कुछ अलग है। ये अंतर ज्यादातर मामूली हैं और मुख्य रूप से वर्तनी और उच्चारण से संबंधित हैं। कई अफ्रीकी-अमेरिकी और कुछ अन्य अमेरिकी भी अफ्रीकी-अमेरिकी वर्नाक्युलर अंग्रेज़ी बोलते हैं जिसकी मानक अमेरिकी अंग्रेज़ी से कुछ अलग व्याकरण और शब्दावली है। इस अंग्रेज़ी का सामान्य अमेरिकी कठबोली और बोलचाल की भाषा पर बड़ा प्रभाव पड़ा है। हालांकि लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में अक्सर अन्य भाषाओं में संकेत और जानकारी उपलब्ध होती है। लेकिन आम तौर पर आगंतुकों को अंग्रेजी बोलने और समझने की क्षमता होनी चाहिए।