23.0684487.31668Full screen dynamic map

विष्णुपुर

विकियात्रा से
Jump to navigation Jump to search


बिष्णुपुर या विष्णुपुर (बंगला: বিষ্ণুপুর) भारत के पश्चिम बंगाल राज्य के बाँकुरा ज़िले में स्थित एक ऐतिहासिक महत्व का शहर है। इस नगर की सांस्कृतिक पहचान विशेषतः पूर्वी भारत के ऐतिहासिक राढ़ क्षेत्र से जुड़ी हुई है। बिष्णुपुर विशेहतः अपने प्राचीन और मध्यकालीन टेराकोटाकृत मंदिरों और उनकी विशिष्ट वास्तुकला के लिए जाना जाता है।

बिष्णुपर में, पश्चिम बंगाल के किसी भी क्षेत्र या शहर से अधिक मंदिर हैं, जोकि ऐतिहासिक और सांस्कृतिक लिहाज़ से अत्यंत महत्वपूर्ण हैं तथा राढ़ क्षेत्र की विशिष्ठ ऐतिहासिक वास्तुकला के बेशकीमती मिसाल हैं। यहाँ के अधिकांश मंदिर वैष्णव पंथ से सम्बंधित हैं, जबकि कुछ, शैव, तथा अन्य बौद्ध और जैन संप्रदाय के मंदिर भी बिष्णुपर और इसके इर्द-गिर्द बिखरे पड़े हैं। हालाँकि कुछ पुराने मंदिर, मखरैली मिट्टी के बने हैं, परंतु बिष्णुपर में अनेकों ईंट-कृत मंदिर हैं, जिनमें टेराकोटा की उत्कृष्ट नक्काशियाँ की हुई हैं।

Cluster of temples in Bishnupur

इतिहास[सम्पादन]

बिष्णुपर और इसके आस-पास के क्षेत्र की विशिष्ट पहचान और वास्तुकला का मूल कारण छिपा है इस क्षेत्र के विशिष्ठ इतिहास में, जिसका सबसे खास पहलु है, बिष्णुपर राजशाही की लंबे समय तक, मुर्शिदाबाद-केंद्रित बंगाल सल्तनत से स्वतंत्रता, और बाकि के बंगाल से सांस्कृतिक अलगाव।

१९ वीं सदी में इतिहासकार रमेशचंद्र दत्त ने लिखा था: The ancient Rajas of Bishnupur trace back their history to a time when Hindus were still reigning in Delhi, and the name of the Musalmans was not yet heard in India. Indeed, they could already count five centuries of rule over the western frontier tracts of Bengal before Bakhtiyar Khilji wrested the province from the Hindus. The Musalman conquest of Bengal, however, made no difference to the Bishnupur princes... these jungle kings were little known to the Musalman rulers of the fertile portions of Bengal, and were never interfered with. For long centuries, therefore, the kings of Bishnupur were supreme within their extensive territories. At a later period of Musalman rule, and when the Mughal power extended and consolidated itself on all sides, a Mughal army sometimes made its appearance near Bishnupur with claims of tribute, and tribute was probably sometimes paid. Nevertheless, the Subahdars of Murshidabad, never had that firm hold over the Rajas of Bishnupur which they had over the closer and more recent Rajaships of Burdwan and Birbhum. As the Burdwan Raj grew in power, the Bishnupur family fell into decay; Maharaja Kirti Chand of Burdwan attacked and added to his zamindari large slices of his neighbour’s territories. The Marathas completed the ruin of the Bishnupur house, which is an impoverished zamindari in the present day.

बाँकुरा जिले में उड़ीसा की कलिंग वास्तुकला में निर्मित, रेखा देओल शैली के कुछ उत्कृष्ट उदाहरण हैं, (उदाहरण के लिए बहुलारा में)। लेकिन बंगाल शैली का वास्तुकला है जो इस जिले में उल्लेखनीय है। 1643 में रघुनाथ सिंह द्वारा निर्मित "श्यामराय मंदिर" बंगाल में संभवतः सबसे पुराना 'पंचरत्न' मंदिर है। झुका हुए घुमावदार छतों के साथ, इसमें केंद्र में एक, तथा प्रत्येक कोने में एक-एक 'पीढ़ा देउल' मौजूद है। जोर बांग्ला मंदिर 1655 में बनाया गया था, इसे भी राजा रघुनाथ सिंह ने बनवाया था। यह मंदिर, बंगाल शैली की वास्तुकला का एक बढ़िया उदाहरण है। इस मंदिर की वास्तुकला यह दर्शाता है कि देवताओं को मनुष्य के करीबी के तौरपर देखा जाता था और ऐसे मंदिरों में रखा गया था जो सामान्य मानव निवास (कच्चे छतों वाली झोंपड़ियाँ) के समान थे।


बिश्नुपुर में चार अलग-अलग प्रकार के मंदिरों को अलग किया जा सकता है। पहले एक घुमावदार छत पर एक वर्ग है और मल्लेश्वर मंदिर द्वारा प्रतिनिधित्व किया है। दूसरी ओर एक घुमावदार छत पर एक टावर है इसके सर्वोत्तम उदाहरण ईद में मदन मोहन मंदिर हैं और लेटेला लालजी और राधा श्याम मंदिरों में हैं। 'पंचरत्न' मंदिर में घुमावदार छत पर पांच टावर हैं सर्वश्रेष्ठ उदाहरण श्याम राय ईंट में मंदिर और लेटेराइट में मदन गोपाल मंदिर हैं। चौथा प्रकार जोर बंगाला प्रकार है, जिसकी आकार दो इमारतों की तरह होती है, जैसे कि एक ठेठ बंगाल झोपड़ी एक साथ एक छोटे से बुर्ज के साथ मिलकर आती है। वास्तुकला दृष्टिकोण से यह सबसे दिलचस्प है। श्याम राय मंदिर में नक्काशीदार टाइलों का बेहतरीन नमूना है।

बिष्णुपर के समाज और संस्कृति में इन मंदिरों की महत्व का अंदाज़ा इस बात से भी लगाया जा सकता है, की इतने सुसम्पन्न और मनोहर मंदोरों को बनवाने के बावजूद, बिष्णुपर के शक्तिशाली राजकुटुंब एक सरल, विनयशील, एक मंज़िल महल में रहा करते थे, जोकि तत्कालीन बंगाल के समय छोटे-बड़े ज़मींदारों की हवेलियों के सामने भी कुछ नहीं था। यहाँ तक की बिष्णुपर के सुरक्षा दुर्ग और किलों को भी विशेष कर, इन मंदिरों की सुरक्षा को ध्याम में रखते हुए बनाया गया था।

पहुँचना[सम्पादन]

कोलकाता से बस, सड़क या ट्रेन से।

  • बस से - कलकत्ता राज्य परिवहन निगम (सीएसटीसी) और दक्षिण बंगाल स्टेट ट्रांसपोर्ट कॉरपोरेशन (एसबीएसटीसी) बसों का नियमित रूप से कोलकाता के धर्मतला/एस्प्लनेड बस स्टैंड और बिश्नुपुर के बीच होता है। यह बिष्णुपुर तक पहुंचने में लगभग 4-5 घंटे लगते हैं। सड़क की दूरी रेल दूरी की तुलना में कम है, यह लगभग 150 किमी है।
  • सड़क मार्ग से - कोलकाता से डानकुनी की यात्रा, दुर्गापुर एक्सप्रेसवे को ले, रतनपुर के पार की ओर मुड़ें और शोरफुली-तारकेवार रोड ले जाने के लिए सीधे सरबाग और बिष्णुपुर तक जाएं
  • ट्रेन से- कोलकाता से लगभग 3:30 से 4:15 घंटो, दूरी 201 और nbsp; किमी सुविधाजनक कनेक्शन - 'रूपशी बंगाला एक्सप्रेस' 6:00 बजे हावड़ा प्रस्थान, पुरूलिया एक्सप्रेस 4:45 बजे हावड़ा प्रस्थान और अरण्यक एक्सप्रेस शालीमार को 7:45 बजे प्रस्थान करते हैं। हावड़ा से बिष्णुपुर तक "अरण्यक एक्सप्रेस" आने के लिए, पहले को स्थानीय रेलगाड़ी से संतरागाछी और फिर अरण्यक एक्सप्रेस से आना होगा। ये सभी ट्रेन खड़गपुर, मिदनापुर के माध्यम से हैं। आप हावड़ा-चक्रधरपुर यात्री के लिए भी विकल्प चुन सकते हैं जो हावड़ा को 23: 05 बजे छोड़ देता है। इस ट्रेन में स्लीपर क्लास प्रावधान है

दूसरे विकल्प, खड़गपुर / मिदनापुर / बर्धमान / दुर्गापुर में आने के लिए ट्रेन के रूप में हावड़ा।

कोलकाता में नेताजी सुभाष हवाई अड्डा नियमित व्यावसायिक उड़ानों के लिए सबसे नज़दीकी है। जो लोग उड़ान कनेक्शन की तलाश कर रहे हैं वे आंदाल, दुर्गापुर में और काजी नज़रुल हवाई अड्डे से उड़ानों की जांच कर सकते हैं।

अन्य स्थानों से -

  • तारकेश्वर से बस द्वारा
  • दुर्गापुर से बस द्वारा
  • खड़गपुर से ट्रेन द्वारा
  • बर्धमान से बस द्वारा
  • दुर्गापुर से बस द्वारा
  • आसनसोल से ट्रेन द्वारा
जोरबांग्ला मंदिर

यातायात[सम्पादन]

अधिकांश मंदिर पैदल चलने योग्य दुरी पर स्थित है, हालाँकि, रिक्शा और भाड़े पर गाड़ियां भी पाई जा सकती हैं। इसके अलावा बिष्णुपर शहर में परिवहन के लिए ऑटो और टुकटुक(टोटो) भी पाए जाते हैं।

परिवहन केंद्र[सम्पादन]

  • 1 बिष्णुपर रेलवे स्टेशन
  • 2 बिष्णुपर बस स्टैंड

देखें[सम्पादन]

विष्णुपुर का नक्शा

बिष्णुपर का मुख्य आकर्षण है, मल्ल वंश के समय निर्मित टेराकोटा मंदिरें। हालाँकि अन्य पर्यटन स्थल भी यहाँ सूचित हैं।

मंदिरें[सम्पादन]

  • चिन्हमत्सा मंदिर
  • 1 जोरबांग्ला मंदिर १७वीं साड़ी में राजा रघुनाथ सिंह देव द्वितीय द्वारा १७वीं सदी में निर्मित। बानगी की पारंपरिक चाल वास्तुशैली में निर्मित, अपने टेराकोटा नक्काशियों के लिए मशहूर।
  • कालाचंद मंदिर
  • कृष्णा बलराम जुगलकिशोर मंदिर
मदनमोहन मंदिर का भोगमण्डप
  • 2 मदनमोहन मंदिर १६९४ में राजा दुर्जन सिंह देव द्वारा एकरत्न शैली में निर्मित। दीवारों पर उत्कृष्ठ बित्तीचित्र, रामायण और महाभारत की कहानियाँ दर्शाती हुई।
  • 3 मदनगोपाल मंदिर
  • मल्लेश्वस मंदिर
  • मृण्मयी मंदिर
  • नन्दलाल मंदिर
  • राधागोविन्द मंदिर
  • राधालालजी मंदिर
  • राधामधब मंदिर
  • 4 राधेश्याम मंदिर
  • संरेश्वर मंदिर
  • सर्वमंगल मंदिर
श्यामराय मंदिर
  • 5 श्यामराय मंदिर (Pancha Ratna Temple of Shyam Rai) राजा रघुनाथ सिंह द्वारा 1643 में निर्मित, यह बिष्णुपर के सांसे विशाल मंदिरों में से है, इसमें श्रीकृष्ण के जीवन काल से संबंधित कहानियाँ अंकित हैं।

अन्य स्थान[सम्पादन]

  • 3 बॉड़ो पाथोर दॉर्जा(बड़ा पत्थर दरवाज़ा) बिष्णुपर का मुख्यद्वार
  • दलमंडल चमन पश्चिम दिशा से बागड़ियों(मराठों) के हमले से बिष्णुपर की रक्षा करने के लिए बनाया गया था।
  • गॉढ़ दॉर्जा(गढ़ दरवाजा) बिष्णुपर का छोटा दरवाज़ा
  • घुमगढ़ .
  • 4 लालबंध
  • नूतन महल
The Rasmancha
  • 5 रासमञ्च सबसे पुराने ईंट संरचना बीर हंबिर द्वारा 1587 में निर्मित शहर के केंद्र में एक पिरामिड संरचना है, जहां अन्य मंदिरों के देवता रसना समारोह के अवसर पर एक जुलूस में लाए जाते हैं। इस इलाके में मल्ला राजाओं के कुछ तोप हैं
  • प्रस्तर रथ

निकट स्थान[सम्पादन]

  • 6 बहुलारा (बिष्णुपर से 25 km.) सिद्धेश्वर शिव मंदिर और अन्य उत्तर मध्यकालीन काल के बौद्ध चैत्यों के लिए प्रसिद्द है।
  • 7 डीहर (8 km from Bishnupur) सैलेश्वर और सरेस्वर मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है। मल्ल राजवंश के राजा प्रितविमल्ला ने 1346 में मंदिरों का निर्माण किया। यह उन प्रोटो-ऐतिहासिक स्थलों में से एक है जिन्हें खोजा गया है। लगभग 1200-1000 ईसा पूर्व कोलकालिथ वाले लोग द्वारकेश्वर नदी के उत्तर-तट पर बस गए थे। शुरुआती ऐतिहासिक काल के बाद 14 वीं शताब्दी के आसपास सेवेट गतिविधि तक दिहार में कुछ भी उल्लेखनीय नहीं पाया गया है।
  • 8 धारापत (12 किमी) एक 18 वीं शताब्दी जैन-हिंदू मंदिर है। मंदिर में तीन उत्कृष्ट पत्थरों की मूर्तियां हैं- दो जैन देवताओं और विष्णु सभी तीन बाहरी दीवारों पर हैं धरपत में कुछ पत्थर अवशेष हैं उनमें से एक और बहुत ही रोचक, पारसनाथ का एक मूर्ति है जिसे विष्णु की मूर्ति में दो हाथों से जोड़कर ध्यान में लाया गया है। यह स्पष्ट रूप से क्षेत्र में जैन धर्म की गिरावट के बाद हिंदू प्रभाव को बल देने का प्रतीक है।
  • 9 पञ्चमुरा (About 10 km) टेराकोटा घोड़ों के हस्तशिल्प के लिए मशहूर गाँव

Note: Reduce (-) the attached map to see the location of these places properly.

गतिविधियाँ[सम्पादन]

मंदिर पर्यटन और वास्तुकला के अलावा बिष्णुपर हिंदुस्तानी और बंगाली शास्त्रीय संगीत का केंद्र है। यहाँ आप समय निकल कर।

बाज़ार[सम्पादन]

ताँत साड़ी की बुनाई

बिष्णुपर की कुछ विशिष्ट हस्तशिल्प, जो बाजार में उपलभ्ध है:

  • बालूचरी सरिस - एक और प्रसिद्ध बिष्णूपुर उत्पाद। पारंपरिक रूप से "रामायण" और "महाभारत" प्रतीकों के साथ बुना हुआ है लेकिन आधुनिक संस्करण भी उपलब्ध हैं।
  • बाँकुरी घोड़ा - जो अब भारतीय हस्तशिल्प का प्रतीक बन चूका है - टेराकोटा और लकड़ी के संस्करणों में अलग-अलग आकारों में उपलब्ध है।
  • 'शंख के मोती' 'और अन्य चीज़ें

वहाँ बहन से दुकानें हैं जहाँ आप जा सकते है, जिनमे कुछ विशेष दुकानें निम्न लिखित हैं:

  1. टेराकोटा क्राफ्ट, दलमंडल रोड
  2. श्री हरि संखा भंडार, शाँखारीपाड़ा
  3. माँ दुर्गा सांख्य भंडार, शाँखारीपाड़ा
  4. बालतला क्षेत्र में सिल्क खादी सेवा मंडल रेशम बेचती है।
  5. चौक बाज़ार में न्यू कृष्णा क्लॉथ स्टोर, बिश्नुपुर बलूचारी साड़ी का उत्तम संग्रह है।

खाना[सम्पादन]

बिश्नुपुर एक छोटा शहर है। यहां मंदिरों के आसपास और साथ ही मुख्य बस स्टैंड के पास कई छोटी भोजनालय मिल सकते हैं। हालांकि, किसी को 'पोस्टो-आर बोरा' की कोशिश करनी चाहिए। आप विभिन्न प्रकार के फ्राइज़ ( टेलीछाजा ) की कोशिश भी कर सकते हैं और शुद्ध घी से तैयार सिब्दास गर्ल्स स्कूल के पास स्वीटमेट भी कर सकते हैं।

यदि आप पोस्टो बोरा के साथ एक साधारण बंगाली लंच चाहते हैं, तो होटल मोनालिसा आपके मन लायक स्थान है।

पीना[सम्पादन]

सामान्यतः होटल में हार्ड ड्रिंक उपलब्ध हैं

सोना[सम्पादन]

  • 1 बिष्णुपर लॉज (Tourist Lodge of West Bengal Tourism),  +91 3244 252 013, +913244 253 561, +91 9732100950 डबल बेड,4 बेड डारमेट्री हैं। भाड़ा ₹600 और AC-₹1400, ₹2000. डारमेट्री ₹100..
  • 2 होटल लक्ष्मी पार्क +91 3244 256353-256377, +91 9474930666 AC & Non AC Rooms (39 Room) @ 200,300,450,700,800,900,1100,1300,1800 as single, Double, three and four bed rooms.
  • पौरसभा पर्यताकवास +91 3244 252 200 ₹250-₹500.
  • उदयन लॉजCollege Road +91 3244 252243 ₹250-₹600.

आगे जाएँ[सम्पादन]

  • बाँकुरा- विष्णुपुर से 30 किमी, जिला मुख्यालय।
  • बिहारीनाथ- प्रकृति की गोद में छुट्टियों के लिए
  • जयरामबाटी और कामारपुकुर - 43   किमी विष्णुपुर से जयरबाटी और कमपुरपुरा, श्री मा सरदामौई के जन्मस्थान और श्री रामकृष्ण प्रमोहांस हैं। कमपुरपुर्क के निकट बंकिम चंद्र चटर्जी द्वारा प्रसिद्ध 'गढ़ Mandaran' नामक ऐतिहासिक है।
  • मुकुटमणिपुर- काङ्शाबाटी नदी के किनारे बिष्णुपुर से करीब 83 किमी दूर है। मुख्य आकर्षण नदी के पार बांध और पहाड़ी परिदृश्य है।
  • ' सुसूनिया पहाड़' '- जिले के महत्वपूर्ण पहाड़ियों में से एक, पड़ोसी मैदानों से अचानक 44 मीटर की ऊंचाई तक बढ़ रहा है। 4 वीं शताब्दी के राजा चंद्रवर्म के पत्थर के शिलालेखों को यहां खोजा गया है। बंकुरा-पुरूलिया रोड पर बंकुरा से, 13 किमी पर छाटना में उतरना पड़ता है। सुसूनिया 7 किमी है छाटना के उत्तर में


श्रेणी बनाएँ

यह शहर यात्रा मार्गदर्शिका विष्णुपुर एक उपयोग योग्य लेख है। इसमें यहाँ कैसे पहुँचे और यहाँ के होटल और रेस्तराँ के बारे में जानकारी उपलब्ध है। कोई एडवेंचरप्रेमी व्यक्ति इसका इस्तेमाल कर सकता है, लेकिन इसे संपादित करके और भी बेहतर बनाने में बिलकुल न झिझकें

{{#assessment:city|usable}}